क़ुदरत


kudrat

Advertisements

मीडिया


ट्विटर पर ट्रेन्ड फॉलो होता हैं
ट्रूथ नही !
फेसबुक मे फेस पर लाइक मिलते हैं
फैक्टस पर नही !
समाचार चैनलो पर बहस होती हैं
बात नही !
अखबारो मे मसाला परोसा जाता हैं
मसला नही !
इस सबके बावजूद आप इन्हें मीडिया कहते हैं
तो आपको ये आइडिया नही !
कि मीडिया वो हैं जो आईना बने
नमूना नही !

मौत


छा गया अंधेरा बुझ गयी ज्योत
वक़्त की उंगलिया थामे लो आ गयी मौत

जुए का खेल था ये ज़िन्दगी का कारवा
जीते तो जीते चले गए और हारे तो लो आ गयी मौत

बड़ी चालाकी से चल रहे थे हम तो हर एक चाल यारा
पर चाल चली जब उसने तो लो आ गयी मौत

दाँव पर लगी थी साँसे हाशिये पर थे होश
पर होठो से ये कहते ना बनी कि लो आ गयी मौत

बचपन से बुढ़ापा तो हैं एक गोल चौराहा
एक उमर का चक्कर था और आ गयी मौत

किराये की काया को अपना मत समझ लेना “ठाकुर”
रूह को आज़ाद करने एक दिन तो आएगी मौत

ये दुनिया बहुत रंगीली हैं !


ये आसमान बहुत ऊचा हैं
ये धरती भी बहुत बड़ी हैं
तू आकर तो देख जरा
ये दुनिया बहुत रंगीली हैं !

सूंड वाला हाथी हैं
धारी वाली गिलहरी हैं !
फूल हैं खुशबु वाले
और हरी भरी तरकारी हैं !
आम हैं रसीला पर
खट्टी मीठी इमली हैं !
कौआ हैं काला कितना पर
रंगबिरंगी तितली हैं !
तू आकर तो देख जरा
कितनी खुबसूरत अपनी ये प्रकृति हैं !

आकाश में उड़ता कैसे कोई पंछी हैं
पानी में कैसे तैरती मछली हैं !
कैसे बादलो से बुँदे निकली हैं
और कैसे जलती ये माचिस की तीली हैं !
क्यों रेगिस्तान हैं सूखा और नदियाँ गीली हैं
क्यों पहाड़ हैं खड़ा और खाई गहरी हैं !
मूछ वाले हैं काका क्यों और
साड़ी वाली कैसे काकी हैं !
तू आकर तो सुलझा जरा
इस दुनिया में कितनी पहेली हैं !

सुबह हैं चमकीली और
शाम सुनहरी हैं !
दिन हैं उजालो वाला
पर रात अंधियारी हैं!
बारिश में निकलता छाता यहाँ
और सर्दियों में स्वेटर पहनना जरुरी हैं !
गर्मी कटे कैसे बिन कूलर के
हर मौसम की अपनी तैयारी हैं !
तू आकर तो देख जरा
हर दिन की यहाँ निराली कहानी हैं !

बादलो का हैं दोस्त तू
या सितारों की तू सहेली हैं !
आयेगा युवराज बनकर
या परी देस की शाहज़ादी हैं !
सूरत हैं कैसी तेरी
और किसने तेरी नज़र उतारी हैं !
पहचानेगा तू कैसे हमको
क्या तुझको हमारी जानकारी हैं !
तू आकर तो बता जरा
इस बात की बड़ी बेकरारी हैं !

ये आसमान बहुत ऊचा हैं
ये धरती भी बहुत बड़ी हैं
तू आकर तो देख जरा
ये दुनिया बहुत रंगीली हैं !

“बरामदे की धूप” available in book format


bkd_back_pagebkd front pageIts an year and so, I haven’t update anything in blog. But good news is that I was trying to publish the content of blog in the form of book…and result is fruitful. All the poems of this blog are available in the form of book and e-book.You can buy it from online websites.

Hope all my readers love this sunshine of gallery.

And yes…this year I will be active…promise.

Here are the links of book.
Flipkart:
Ebay:
Infibeam: