नादान दिल ने ख्वाहिश की ऐसे …


Some lovely thought struck in mind at various occasions. I hope it all collectively transmitting beautiful pleasure to reader.

नादान दिल ने ख्वाहिश की कुछ ऐसे
भूल गया सब कुछ
मन गुदगुदाया ऐसे !
रोका हैं यु तो
इस दिल को जैसे-तैसे !
पर अब ये नालायक, मानता नहीं जैसे !
पाना ये चाहे प्यार किसी से
तनहा सफ़र माँगे,
हमसफ़र राहों से !!

सर्द हवायें करे कैसी हरकत
रग – रग में दौड़े मस्ती का शरबत!
कहना मैं चाहू सबसे ये झटपट
हो गया दीवाना मैं
बेख़ौफ़ , बैगैरत ….

आज़ादियो की डोर जब खुलने लगी ज़रा
जवानी की पतंग तब उड़ने लगी जरा
आया हैं मौसम ये कितना सुनहरा
वक़्त की रेत को रोक लो ज़रा
कि कोई आने को हैं यहाँ …
कि कोई राहों में हैं खड़ा …

खूबसूरत इस ख्वाब का कभी तो आगाज़ हो
ख़ुशी से नहीं तो ख़ामोशी के साथ हो
कोई ना कोई किस्सा अपने भी साथ हो
कि ना जाने कब ये जान ज़िन्दगी से आजाद हो …
कि ना जाने कब अपना ठिकाना आसमानों के पार हो …

Advertisements

One thought on “नादान दिल ने ख्वाहिश की ऐसे …

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s