Bollywood theme poem


Love is not the genre, I find myself comfortable to write in. But some time ago, I watched “Rahna hain tere dil main”, and this movie really stirred me to write this composition. These lines were not fully based on the story line of RHTDM, but it completely grounded on my imagination and vision created by Bollywood romantic movies. I didn’t find it too realistic, but as a shayar said “मन बहलाने के लिए ये ख्याल भी अच्छा हैं”

न जाने किन कदमो से नापी थी हमने चाहत की दूरियां
चलो कितना भी लेकिन राहे ये खत्म होती नहीं
कुछ ऐसा चलता रहा संजोगो का सिलसिला
कभी वो बोली नहीं और कभी में समझा नहीं

 

 

 

मैं ही न पड़ पाया उसकी ख़ामोशी को
वो तो मेरी हर बात सच  समझती रही
नवाजा उस वादे को सिर्फ दोस्ती के नाम से
जिसे प्यार समझ वो सालो तक निभाती रही

 

 

जब पास थे तो नजदीकिया नाराजगी बनती गयी
फिर दूर हुए, तो दूरिया दरारों को भरती गयी
थोड़ी सी गलतफहमियो ने पैदा किये, कैसे ये फासले
दरारे भर भी गयी, पर दूरिया मिटती नहीं

 

न जाने क्यों ये दिल, पहले उसकी चाहत को समझा नहीं
जब जाना, तो दूर वो मुझसे जाती रही
अब ज़िन्दगी मेरे सब्र का इम्तिहान लेने लगी
कभी लगता हैं भूल जाऊ हमेशा के लिए उसको, कभी लगता हैं इंतज़ार और सही

Advertisements

4 thoughts on “Bollywood theme poem

  1. Wow… nice poem… arey mujhe to aaj pata chala ki tu itna romantic person hai…
    Kaun hai wo… hamari hone wali bhabhi ji 😉

    • ye hindi romantic movie dekhkar itna likhana to aa hi jata hain……………………………..aur ha bhabhiji ka nam to mujhe bhi nahi pata………………………….
      ha is sal apni bahut sari bhabhiji aane wali he….@braj, @ raveesh, @prasanna, @sarang………………………..

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s