Gule – Gulzar


गुजारिश

जब भी हम अकेले होते हैं, आपकी याद आ जाती हैं |
महकती हैं तन्हाई ख्यालो में हमारी , आपके साथ बिताया हर लम्हा जब याद आता हैं |
आपकी याद बसी हैं दिल के हर कोने में हमारे, हर साँस आँखों में आपकी तसवीर बना जाती हैं |
आ जाओ, बिता लो प्यार के कुछ पल साथ में हमारे, वरना ज़िन्दगी युही आपकी यादो के सायो में कट जानी हैं |

आज दिल उदास हैं

दूर हो गये हैं वो हमसे जिनके लिए दिल में जगह खास हैं,
कुछ बेरुखी उनकी हैं कुछ गलतिया हमारे साथ हैं |
मुरझाये हुए फूलो से घर सजाने की आस हैं,
अपनों के परायेपन पर आज दिल उदास हैं |

चाहत

तारो की महफ़िल चाँद के बगैर बेनूर हैं,
दिल हैं उदास हमारा चाँद हमसे बहुत दूर हैं |
उसका दिल भी हमारी याद में धड़कता जरूर हैं,
उसकी इसी चाहत पर हमको गुरूर हैं |

Advertisements

One thought on “Gule – Gulzar

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s