तुझसे दूर रहकर माँ


तुझसे दूर रहकर माँ, मेने दुनिया को करीब से देखा
तू साथ नहीं हे यहाँ माँ, फिर भी मैं बहुत कुछ सिखा |

मतलब के दोस्त हैं, पैसो से रिश्ते हे
इस दुनिया में न जाने लोग जीते कैसे हैं |

मेरे दिल को बातो को तू जाने कैसे जान लेती थी
यहाँ तो सब लोग अपने मतलब का ही सुन पाते हैं |

तेरी गोद में ये दुनिया कितनी सुहानी दिखती थी
झुलसाने वाली गर्मी थी वो जो शीतल छाँव लगती थी|

दूंदने निकला जब अपनों को तो हर कोई नये चहरे में दिखा
सच कह रहा हु माँ तुझसे दूर होकर मैं बहुत कुछ सिखा |

ज़माने के इस गुलशन में काँटों से बचकर फूलो को चुनना सिखा
हिम्मत से सो गया खुद से जब भी सपनो में डरकर चीखा |

रंग रंगीली इस दुनिया में भला बुरा जान लेता हु मैं
अनजानों की भीड़ में अपनों को पहचान लेता हु मैं |

हर ठोकर एक नया होंसला देकर जाती हैं
तेरी याद ही बस अब आँखों को नाम कर पाती हैं |

तुझसे दूर रहकर माँ ,तेरी गोद में सोने को हम बहुत तरसे
यही दुआ हे रब से, तेरा नूर मेरी राहों में हमेशा बरसे |

Advertisements

3 thoughts on “तुझसे दूर रहकर माँ

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s